Search
Close this search box.

लगातार बारिश होने से नदियों के जलस्तर में वृद्धि, नदी किनारे बसे ग्रामीणों में भय व्याप्त

बेहतर न्यूज अनुभव के लिए एप डाउनलोड करें

टेढ़ागाछ/ किशनगंज/मनोज कुमार

पिछले कई दिनों से हो रही लगातार बारिश के कारण प्रखंड क्षेत्र के रेतुआ व गोरिया एवं कनकई नदी के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। जिसके कारण नदी किनारे बसे गांव के लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। क्योंकि बाढ़ एंव नदी कटाव के प्रकोप से प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों परिवार प्रतिवर्ष प्रभावित होते आ रहे हैं।

विगत कई दिनों से हो रही बारिश से क्षेत्र की नदियों के जलस्तर में हुई वृद्धि के कारण जहां आवागमन में लोगों को परेशानी हो रही है।वहीं तटवर्ती इलाके के लोग बाढ़ से भयभीत हैं।इस क्षेत्र में बाढ़ एवं नदी से कटाव का खतरा मंडराने लगा है।
कुछ दिनों पुर्व इन नदियों का जलस्तर सामान्य से काफी नीचे चला गया था और तटवर्ती इलाके के लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली थी।

परंतु लगातार बारिश के कारण एक बार फिर से नदी में उफान आ गई है। नदियों के जलस्तर में वृद्धि के कारण एक ओर जहां दोबारा बाढ़ की आशंका बढ़ने लगी है।

वहीं कटाव की समस्या जी का जंजाल बन रहा है। क्योंकि नदी की जलस्तर में वृद्धि होने से अक्सर नदी का धारा प्रभाव की स्थिति काफी खतरनाक हो जाती है और कटाव भी तेजी से होने लगती है,जिससे स्थानीय लोगों में भय व्याप्त है।

चिल्हनियाँ पंचायत के मुखिया मोफ़तलाल ऋषिदेव ने बताया कि चिल्हनियाँ पंचायत के बभंनगामा , चिल्हनियाँ, सुहिया हाट टोला,कोठीटोला देवरी, आदिवासी टोला देवरी खास गांव के नजदीक नदी का भीषण कटाव जारी है। खासकर आदिवासी टोला देवरी खास के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है। रेतुआ नदी में बाढ़ आने से मुस्लिम टोला चिल्हनिया गांव एवं बिहार मुसहरी, कोठी टोला देवरी गांव के चारों तरफ पानी से गिर गया है जिससे लोगों को निकालना दुर्लभ हो गया है। स्थानीय लोगों ने जिला पदाधिकारी से बाढ़ से बचाव व कटाव राहत कार्य की मांग की है।

Leave a comment

[the_ad id="71031"]

लगातार बारिश होने से नदियों के जलस्तर में वृद्धि, नदी किनारे बसे ग्रामीणों में भय व्याप्त

error: Content is protected !!
× How can I help you?