Search
Close this search box.

किशनगंज :खुले आसमान के नीचे पठन पाठन को मजबूर बच्चे

बेहतर न्यूज अनुभव के लिए एप डाउनलोड करें

उत्क्रमित मध्य विद्यालय हवाकोल बाढ़ में हुआ था ध्वस्त, खुले आसमान में बैठते हैं स्कूली बच्चे

टेढ़ागाछ/किशनगंज/मनोज कुमार

टेढ़ागाछ प्रखंड अंतर्गत हवाकोल पंचायत स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय हवाकोल विगत वर्ष 2022 में रेतुवा नदी के कटाव के चपेट में आने से ध्वस्त हो गया है।ध्वस्त व जर्जर विद्यालय भवन में अब स्कूली बच्चे तो नहीं बैठते हैं,लेकिन शिक्षकों को जर्जर भवन में ही समय बिताना पड़ रहा है।

जर्जर भवन के बाहर बच्चों की क्लास ली जा रही है।बच्चे भी दिन भर खुले आसमान में बैठकर पढ़ने को विवश हैं।इधर शिक्षा विभाग सुबह नौ बजे से शाम पाँच बजे तक विद्यालय में पठन पाठन कार्य करने का आदेश लागू कर रखी है।उधर अभिभावक अपने बच्चों को ध्वस्त व जर्जर विद्यालय भवन में पढ़ने भेजकर चिंतित हैं।

स्थानीय अभिभावकों का कहना है कि विद्यालय भवन जर्जर है।कभी भी धराशाही हो सकती है।ऐसे में बच्चों को विद्यालय भेजना चिंता का विषय है।बच्चे हमेशा एक जगह नहीं रहते उनका स्वभाव होता है इधर उधर जाने का हो सकता है वह जर्जर भवन में जाये और भवन गिर जाय हो क्या होगा इसका ध्यान शिक्षा विभाग को नहीं है।स्थानीय अभिभावकों ने जिला पदाधिकारी का ध्यान आकृष्ट किया है।

किशनगंज :खुले आसमान के नीचे पठन पाठन को मजबूर बच्चे

error: Content is protected !!
× How can I help you?