Search
Close this search box.

फाइलेरिया ग्रसित मरीजों को बेहतर देखभाल के लिए मिला एमएमडीपी किट 

बेहतर न्यूज अनुभव के लिए एप डाउनलोड करें


पोठिया प्रखंड में 06  फाइलेरिया मरीजों को दिया गया किट 

किशनगंज /प्रतिनिधि

हाथीपांव के साथ जीवन बोझिल महसूस होता है। यह आवश्यक है कि मरीज फ़ाइलेरिया का प्रबंधन कैसे हो इसके बारे में जाने और इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाये। फाइलेरिया उन्मूलन मुहिम को लेकर जिले में स्वास्थ्य विभाग सजग है। जिले को फाइलेरिया मुक्त बनाने की दिशा में स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयास कर रहा है। एक तरफ जहां जिले के प्रखंडों  में 1846 मरीज के लिए फाइलेरिया क्लीनिक एमएमडीपी की शुरुआत की गयी है।

सिविल सर्जन डॉ राजेश कुमार ने बताया की पोठिया प्रखंड के  फाइलेरिया क्लिनिन्क  में फाइलेरिया ग्रसित मरीजों के प्रभावित अंग की बेहतर देखभाल के लिए 06  फाइलेरिया ग्रसित मरीजों को मोरबिडिटी मैनेजमेंट एंड डिसेबिलिटी प्रीवेंशन किट एवं यूडीआईडी सर्टिफिकेट भी प्रदान किया गया। सभी मरीजों को किट प्रदान करते हुए स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा फाइलेरिया ग्रसित अंगों की देखभाल करने और नियमित रूप से आवश्यक दवाइयों के उपयोग करने की जानकारी दी गई। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी फाइलेरिया के मरीजों को अपने घर एवं आसपास के लोगों को फाइलेरिया से सुरक्षित रहने के प्रति जागरूक करने का संदेश दिया गया। 


जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ मंजर आलम ने बताया कि फाइलेरिया ग्रसित मरीजों का सम्पूर्ण इलाज नहीं हो सकता लेकिन इसे नियंत्रित रखा जा सकता है। इसके लिए मरीजों को ग्रसित अंगों की सही तरीके से देखभाल करना जरूरी है। ज्यादातर लोगों के पांव फाइलेरिया से ग्रसित होते हैं जिसे आमतौर पर हाथीपांव भी कहा जाता ।

ऐसे में लोगों को इसका विशेष ध्यान रखना जरूरी है। पांव को नियमित रूप से डेटॉल साबुन से साफ करने के साथ उसमें एंटीसेप्टिक क्रीम लगानी चाहिए। इससे ग्रसित अंगों का आवश्यक नियंत्रण किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पांव के अतिरिक्त लोगों के हाथ, हाइड्रोसील व महिलाओं के स्तन भी फाइलेरिया से ग्रसित हो सकते हैं। समय से इसकी पहचान करते हुए आवश्यक चिकित्सकीय सहायता लेने से इसे नियंत्रित रखा जा सकता है। 

Leave a comment

फाइलेरिया ग्रसित मरीजों को बेहतर देखभाल के लिए मिला एमएमडीपी किट 

error: Content is protected !!
× How can I help you?